Translate

Saturday, 4 June 2016

अध्याय 11 श्लोक 11 - 40 , BG 11 - 40 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 11 श्लोक 40

आपको आगे, पीछे, तथा चारों ओर से नमस्कार है | हे असीम शक्ति! आपअनन्त पराक्रम के स्वामी हैं | आप सर्वव्यापी हैं, अतः आप सब कुछ हैं |



अध्याय 11 : विराट रूप

श्लोक 11.40



नमः पुरस्तादथ पृष्ठस्ते नमोSस्तु ते सर्वत एव सर्व |
अनन्तवीर्यामीतविक्रमस्त्वं सर्वं समाप्नोषि ततोSसि सर्वः || ४० ||







नमः – नमस्कार; पुरस्तात् – सामने से; अथ – भी; पृष्ठतः – पीछे से; ते– आपको; नमः-अस्तु – मैं नमस्कार करता हूँ; ते – आपको; सर्वतः – सभी दिशाओं से; एव– निस्सन्देह; सर्व – क्योंकि आप सब कुछ हैं; अनन्त-वीर्य – असीम पौरुष;अमित-विक्रमः – तथा असीम बल; त्वम् – आप; सर्वम् – सब कुछ; समाप्नोषि – आच्छादितकरते हओ; ततः – अतएव; असि – हो; सर्वः – सब कुछ |

भावार्थ


आपको आगे, पीछे, तथा चारों ओर से नमस्कार है | हे असीम शक्ति! आपअनन्त पराक्रम के स्वामी हैं | आप सर्वव्यापी हैं, अतः आप सब कुछ हैं |



तात्पर्य



कृष्ण के प्रेम से अभिभूत उनका मित्र अर्जुन सभी दिशाओं सेउनको नमस्कार कर रहा है | वह स्वीकार करता है कि कृष्ण समस्त बल तथा पराक्रम केस्वामी हैं और युद्धभूमि में एकत्र समस्त योद्धाओं से कहीं अधिक श्रेष्ठ हैं |विष्णुपुराण में (१.९.६९) कहा गया है –
.
योऽयं तवागतो देव समीपं देवतागणः |
स त्वमेव जगत्स्त्रष्टा यतः सर्वगतो भवान् ||
.
“आपके समक्ष जो भी आता है, चाहे वह देवता ही क्यों ण हओ, हे भगवान्!वह आपके द्वारा ही उत्पन्न है |”








1  2  3  4  5  6  7  8  9  10

11  12  13  14  15  16  17  18  19   20

21  22  23  24  25  26  27  28  29  30

31  32  33  34  35  36  37  38  39  40

41  42  43  44  45  46  47  48  49  50

51  52  53  54  55





<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>




Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment