Translate

Friday, 18 September 2015

अध्याय 7 श्लोक 7 - 27 , BG 7 - 27 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 7 श्लोक 27
हे भरतवंशी! हे शत्रुविजेता! समस्त जीव जन्म लेकर इच्छा तथा घृणा से उत्पन्न द्वन्द्वों से मोहग्रस्त होकर मोह को प्राप्त होते हैं |



अध्याय 7 : भगवद्ज्ञान

श्लोक 7 . 27



इच्छाद्वेषसमुत्थेन द्वन्द्वमोहेन भारत |
सर्वभूतानि सम्मोहं सर्गे यान्ति परन्तप || २७ ||


इच्छा – इच्छा; द्वेष – तथा घृणा; समुत्थेन – उदय होने से; द्वन्द्व – द्वन्द्व से; मोहेन – मोह के द्वारा; भारत – हे भरतवंशी; सर्व – सभी; सम्मोहम् – मोह को; सर्गे – जन्म लेकर; यान्ति – जाते हैं, प्राप्त होते हैं; परन्तप – हे शत्रुओं के विजेता |




भावार्थ


हे भरतवंशी! हे शत्रुविजेता! समस्त जीव जन्म लेकर इच्छा तथा घृणा से उत्पन्न द्वन्द्वों से मोहग्रस्त होकर मोह को प्राप्त होते हैं |


 तात्पर्य




जीव की स्वाभाविक स्थिति शुद्धज्ञान रूप परमेश्र्वर की अधीनता है | मोहवश जब मनुष्य इस शुद्धज्ञान से दूर हो जाता है तो वह माया के वशीभूत हो जाता है और भगवान् को नहीं समझ पाता | यह माया इच्छा तथा घृणा के द्वन्द्व रूप में प्रकट होती है | इसी इच्छा तथा घृणा के करण मनुष्य परमेश्र्वर से तदाकार होना चाहता है और भगवान् के रूप में कृष्ण से ईर्ष्या करता है | किन्तु शुद्धभक्त इच्छा तथा घृणा से मोहग्रस्त नहीं होते अतः वे समझ सकते हैं कि भगवान् श्रीकृष्ण अपनी अन्तरंगाशक्ति से प्रकट होते हैं | पर जो द्वन्द्व तथा अज्ञान के कारण मोहग्रस्त हैं, वे सोचते हैं कि भगवान् भौतिक (अपरा) शक्तियों द्वारा उत्पन्न होते हैं | यही उनका दुर्भाग्य है | ऐसे मोहग्रस्त व्यक्ति मान-अपमान, दुख-सुख, स्त्री-पुरुष, अच्छा-बुरा, आनन्द-पीड़ा जैसे द्वन्द्वों में रहते हुए सोचते रहते हैं “यह मेरी पत्नी है, यह मेरा घर है, मैं इस घर का स्वामी हूँ, मैं इस स्त्री का पति हूँ |” ये ही मोह के द्वन्द्व हैं | जो लोग ऐसे द्वन्द्वों से मोहग्रस्त रहते हैं, वे निपट मुर्ख हैं और वे भगवान् को नहीं समझ सकते |





1  2  3  4  5  6  7  8  9  10

11  12  13  14  15  16  17  18  19  20

21  22  23  24  25  26  27  28  29  30






<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment